Shri Hanuman Ji Ki Aarti Lyrics | श्री हनुमान आरती PDF हिंदी में

यहाँ Shri Hanuman Ji Ki Aarti Lyrics बहुत ही अच्छी तरह लिखित में है। इस आरती को आप हिंदी और इंग्लिश में पढ़ सकते है। साथ ही श्री हनुमान आरती PDF डाउनलोड करने की सुविधा भी दी है।

Shri Hanuman Ji Ki Aarti Lyrics | श्री हनुमान आरती PDF हिंदी में

हनुमान जी की आरती द्वारा 5 फायदे अवश्य देखने मिलते है

  • भक्त को शारीरिक और मानसिक बल मिलता है।
  • मन में रहा बिनजरूरी भय दूर होने लगता है।
  • भगवान हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
  • मनुष्य की अच्छी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।
  • आरती द्वारा अधिकांश कष्टों से मुक्ति मिलती है।

विशेष : यदि आप श्री बजरंग बलि से जुड़ कर सभी लाभ पाना चाहते है। तो शनिवार के दिन या रोजाना प्रभु हनुमान की आरती जरूर करे।

Shri Hanuman Ji Ki Aarti Lyrics Hindi

बल एंव शक्ति के भगवान श्री हनुमान की बहुत सी आरती और भजन है। जिसमे सबसे ज्यादा प्रचलित “आरती कीजै हनुमान लला की” आरती है। यहाँ इसी आरती के लिरिक्स को हिंदी और इंग्लिश भाषा में बताये है।

₹49 में सस्ती शॉपिंग करे 🔥 Go Now

(1) श्री हनुमान जी की आरती हिंदी में

Hanuman Aarti In Hindi

आरती कीजै हनुमान लला की ।
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

जाके बल से गिरवर काँपे ।
रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥
अंजनि पुत्र महा बलदाई ।
संतन के प्रभु सदा सहाई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥

दे वीरा रघुनाथ पठाए ।
लंका जारि सिया सुधि लाये ॥
लंका सो कोट समुद्र सी खाई ।
जात पवनसुत बार न लाई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥

लंका जारि असुर संहारे ।
सियाराम जी के काज सँवारे ॥
लक्ष्मण मुर्छित पड़े सकारे ।
लाये संजिवन प्राण उबारे ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥

पैठि पताल तोरि जमकारे ।
अहिरावण की भुजा उखारे ॥
बाईं भुजा असुर दल मारे ।
दाहिने भुजा संतजन तारे ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥

सुर-नर-मुनि जन आरती उतरें ।
जय जय जय हनुमान उचारें ॥
कंचन थार कपूर लौ छाई ।
आरती करत अंजना माई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥

जो हनुमानजी की आरती गावे ।
बसहिं बैकुंठ परम पद पावे ॥
लंक विध्वंस किये रघुराई ।
तुलसीदास स्वामी कीर्ति गाई ॥

आरती कीजै हनुमान लला की ।
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

(2) Hanuman Ji Ki Aarti In English

Hanuman Aarti In English

Aarti Kiijai Hanuman Lalaa Kii
Dusht Dalan Raghunaath Kalaa Kii ॥

Jaake Bal Se Giravar Kaanpe
Rog-Dosh Jaake Nikaṭ N Jhaanke ॥
Amjani Putr Mahaa Baladaaii
Santan Ke Prabhu Sadaa Sahaaii ॥
Aaratii Kiijai Hanumaan Lalaa Kii ॥

De Viiraa Raghunaath PaṬHaae
Lankaa Jaari Siyaa Sudhi Laaye ॥
Lankaa So Koṭ Samudr Sii Khaaii
Jaat Pavanasut Baar N Laaii ॥
Aaratii Kiijai Hanumaan Lalaa Kii ॥

Lankaa Jaari Asur Samhaare
Siyaaraam Jii Ke Kaaj Sanvaare ॥
Lakshmaṇ Murchhit Pade Sakaare
Laaye Sanjivan Praaṇ Ubaare ॥
Aaratii Kiijai Hanumaan Lalaa Kii ॥

PaiṬHi Pataal Tori Jamakaare
Ahiraavaṇ Kii Bhujaa Ukhaare ॥
Baaiin Bhujaa Asur Dal Maare
Daahine Bhujaa Santajan Taare ॥
Aaratii Kiijai Hanumaan Lalaa Kii ॥

Sur-Nar-Muni Jan Aaratii Utaren
Jay Jay Jay Hanumaan Uchaaren ॥
Kanchan Thaar Kapuur Low Chhaaii
Aaratii Karat Amjanaa Maaii ॥
Aaratii Kiijai Hanumaan Lalaa Kii ॥

Jo Hanumaanajii Kii Aaratii Gaave
Basahin BaikunṬH Param Pad Paave ॥
Lank Vidhvams Kiye Raghuraaii
Tulasiidaas Svaamii Kiirti Gaaii ॥

Aaratii Kiijai Hanumaan Lalaa Kii
Dushṭ Dalan Raghunaath Kalaa Kii ॥

Shri Hanuman Ji Ki Aarti PDF Download

Hanuman Ji Ki Aarti PDF

क्या आप श्री हनुमान जी की आरती को हमेशा अपने मोबाइल या कंप्यूटर में सेव रखना चाहते है। तो इसके लिए सबसे अच्छा यही है की आप PDF File डाउनलोड कर लीजिये।

PDF Name Hanuman Aarti
Total Pages 1 HD Quality
PDF Size 137 KB
Publisher Unknown
Location Google Drive
Provider Sabsastaa

Download PDF

श्री हनुमान जी की आरती का वीडियो

बजरंग बलि की आरती सम्बंधित इंटरनेट पर कही तरह के म्यूजिक वीडियो है। हमने उन सभी में से जो सबसे अच्छा हनुमान आरती का वीडियो है, वो यहाँ दर्शाया है।

श्री हनुमान जी की आरती विधि

अगर आप पूरी श्रद्धा के साथ अच्छी तरह से आरती करना चाहते है, तो यह विधि पढ़ लीजिये।

  • आरती के दिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान कर लीजिये।
  • फिर साफ़ और सरल कपडे पहन कर स्थान पर आये।
  • इसके बाद पूर्व दिशा की ओर आसन लगाकर बैठ जाये।
  • अपने सामने श्री हनुमान की प्रतिमा रख दीजिये।
  • या फिर चाहे तो राम दरबार का चित्र भी रख सकते है।
  • हाथ में चावल, पुष्प, दूर्वा लेकर हनुमान को याद करे।
  • इसी के साथ श्री हनुमान आरती गाना भी शुरू करना है।

हनुमान जी की आरती का महत्त्व

पवनपुत्र श्री हनुमान जी को प्रसन्न करने और उनके आशीर्वाद को प्राप्त करने के लिए आरती एक सही माध्यम है। हनुमान जी भगवान श्री राम के परम भक्त और उनके सेवक थे। वे सब की नजर में बल, बुद्धि और शक्ति का प्रतीक हैं।

हनुमान चालीसा में उन्हें संकटमोचन, मंगलमूर्ति, पवनपुत्र आदि नामों से संबोधित किया गया है। उनकी आरती गाने से भक्त को शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक लाभ मिलता है।

हनुमान जी की आरती से मन शांत और स्थिर होता है। यह चिंता, तनाव और नकारात्मक विचारों को दूर करने में मदद करती है। साथ ही आत्मविश्वास और सकारात्मकता का संचार करने में भी मददगार है।

आरती से हनुमान जी कृपा करते हैं और उनका आशीर्वाद मिलता है। यह भक्त के जीवन में सुख-शांति और समृद्धि लाती है। आरती परेशानियों और बाधाओं को दूर करने में सहायक होती है।

श्री हनुमान जी की आरती से शरीर को ऊर्जा और ताकत मिलती है। यह रोग और बीमारियों को दूर रखने में मददगार है, इससे शारीरिक स्वास्थ्य बना रहता है।

आशा करता हु श्री हनुमान आरती सम्बंधित अच्छी जानकारी देने में सफल रहा हु। आप जैसे सभी हनुमान भक्त एंव दोस्तों को यह पोस्ट जरूर शेयर करे।

Karanveer
Karanveer

में पिछले 6 साल से ब्लॉग्गिंग कार्य द्वारा जुड़ा हूँ। मुझे ऑनलाइन शॉपिंग और प्रोडक्ट रिव्यु की जानकारी लिखना अच्छा लगता है।

SabSastaa
Logo